National Centre for School Leadership



The National Centre for School Leadership (NCSL) established in 2012 at NIEPA is committed to transformation of schools in the country. With transformation of schools as the prime objective, NCSL-NIEPA is working towards addressing the leadership requirement and contextual school issues in 36 states and Union Territories, 679 districts and 6500 blocks across the country. Mainly all activities of the Centre focus on pursuing a transformative agenda for every school in each State/UT. The Centre also focuses on functioning towards evolving differential and workable leadership models.

The motto of the Centre is to reach out to each school in the country, ensuring every child learns and every school excels. To achieve this mission, the Centre has conceptualized School Leadership Development through operational activities along four components: Curriculum and Material Development, Capacity Building, Networking and Institutional Building and Research and Development.

Unlike the usual short term programmes on school leadership, the Centre has designed leadership development activities that ensure continuous engagement and long term development of school heads and systemic administrators. For the first time in India, a National Programme Design and Curriculum Framework on School Leadership Development has been conceptualized at the National level. The entire programme is based on a practitioner-centric curriculum which is grounded in the needs and contextual issues of schools in the States and the diversity therein. Within the Curriculum Framework, a Handbook on school leadership development has been created which is a rich resource and a reference material designed to equip current Heads of Schools to transform schools of today and prepare prospective leaders in succession to meet the future challenges.

India has made great strides in providing schooling facilities, widening access and increasing retention of children in schools. However, these efforts have not translated into improvements in learning outcomes. There exist high inequalities even at low levels of student learning. Hence the focus of intervention is shifting from schooling to prioritizing learning. It is noticed that schools with similar resources produce dissimilar learning outcomes. What is lacking is effective management of schools resulting in low levels of learning outcomes and poor school quality.

Effective school leadership improves efficiency in resource use, improves teaching quality and enhances learner achievement. At the instance of the MHRD, NIEPA established a National Centre for School Leadership (NCSL) with the prime objective of: ‘every school excels and every child learns’. The Centre designed a framework and a programme for School Leadership Development (SLD) to develop a new generation of school leaders in India. It is envisaged that the SLD programmes will help schools heads transform their schools into 'Centres of Excellence'.

Within a short span of five years the Centre designed and developed specialized face-to- face SLD programmes specifically targeting the School Heads of all levels of school education. The Centre has also succeeded in developing an Online-programme on School Leadership and Management to extend its coverage to each and every school in the country. The online programme operates through the MOODLE platform and is designed around the Curriculum Framework on School Leadership Development conceptualized by the Centre. The course is designed along the four quadrants: (i) E-Content in the form of reading material or modules (ii) Reference Reading Material consisting of Power Point presentations, case studies, audios, videos and many other types of resources (iii) Self Learning Material with practice exercise and activities; and (iv) Assessment with Multiple Choice Questions, assignments, practice exercises, discussion forums and portfolios.

I congratulate NCSL team for taking a major initiative in developing an effective SLD programme and their digital initiatives to guide School Heads in their efforts to improve institutional performance, transform their schools into centre of learning and excellence within the frame work of Sustainable Development Goals.

Dr. N.V Varghese

Right from the day of its inception, the National Centre for School Leadership at NIEPA has committed itself to building leadership capacities of School Heads, making them believe “these are my strengths”, “this is my school” and “this is what should be done to change and transform my school”. Today we have reached a stage when we can proudly announce that the programme of School Leadership Development conceptualized by NCSL, NIEPA is implemented across the length and breadth of this country. In this endeavour, the collaborative efforts of our State/UT governments are highly applauded. The enthusiasm towards the programme shown by our State Resource Group members and School heads who are closely associated with our School Leadership Development Programmes is unmatched.

Among the several programmes on School Leadership Development launched by the Centre, the Online Programme on School Leadership and Management is one of a kind. This Programme is based on a Curriculum Framework on School Leadership Development conceptualized at national level but grounded in real school practices, dealing with more contextual leadership issues. It primarily follows a “practitioner centric” approach bringing to the centre stage the leadership role of School Head as a prime mover for transformation and improvement. Therefore it is specifically intended for Heads and Principals of elementary, secondary and senior secondary schools. The programme offers a wide range of reform initiatives right from developing self to initiating and sustaining school-based changes and innovations.

NCSL took up the challenge of entering into the incredible world of Online Programme using Moodle platform at the behest of MHRD. We are grateful to MHRD for instilling a spirit of confidence in us “yes we can do it”. Each member of NCSL has since then worked tirelessly in designing, generating, collecting, consolidating the e-content, reference reading material and practice exercises, assessments and assignments, audio-video links etc as part of this programme. I congratulate the team of NCSL, NIEPA and technical experts of our University who under the guidance of our Vice Chancellor, Prof N.V.Varghese have made this programme into a dream come true.

NCSL, NIEPA looks forward to the cooperation from State Governments/UTs and State Resource Groups for helping School Heads to reach the last mile. I wish each school head in this country derives maximum benefit from this well thought out programme and becomes a catalyst for school change and development.

Let's join our hands together in this journey of school transformation to ensure “every child learns and every school excels” .

Prof. Rashmi Diwan

Prof. Rashmi Diwan is Prof and Head, National Centre for School Leadership at National Institute of Educational Planning and Administration, New Delhi, India. For the past 30 years,her research work has mainly centered on critical issues in school education, school management and school leadership. With strong foundations of empirical research, she has been contributing extensively to capacity building of current and prospective educational administrators and school leaders. To her credit, her published work in the national and international journals specifically in the domain of School Management and Leadership covers a wide range including Dynamic School Leadership, Strategic Leadership for School-Based Improvement, Leadership Development for Improving Schools, Principal as a catalyst for School-based change and improvement, Leadership Behaviour and Value Patterns Among School Principals, School Leadership in the Wake of RTE ACT 2009: Mapping Change and Challenge, Policy Directions for Women in Leadership Positions, Managing and Leading Small Multigrade Schools, School-Based Management and Supervision, Community Participation and Empowerment in Primary Education and Resilience in Promotion of Schools as Learning Organizations..

Dr Sunita Chugh has her M.A. and M.Phil from JNU in International Politics and Ph.D in Education from Jamia Millia Islamia University. She is currently working at NIEPA in the capacity of Associate Professor, NCSL, NIEPA. Her area of interest includes education of the urban deprived children, inclusive education, RTE and its implementation and school leadership. She has written in reputed journals and authored a book on educational status, issues and problems of children living in slum areas. She has undertaken research projects on issue of access, participation and learning achievement of urban marginalized children and attended programmes on inclusive education in Jerusalem and School Leadership in Nottingham. She is actively leading the school leadership development programme in Delhi, Punjab, Madhya Pradesh, Chhattisgarh, West Bengal and Mizoram
Email ID: sunitachugh[at]nuepa[dot]org

Dr. Kashyapi Awasthi is an Assistant Professor with the National Centre for School Leadership, NIEPA. Her current focus has been on School Leadership Development where she has been actively engaged in the development of Curriculum and Handbook along with the team. She is involved in teaching, research and guidance to M.Phil scholars and Practitioners. Prior to this she has served as a lecturer at the Department of Education, (CASE), M. S. University of Baroda, Gujarat from where she also obtained her Ph.D. She has contributed in the area of community participation in elementary education and capacity building of teachers in elementary education. She is currently engaged with capacity building of school heads and the resource team in states of Gujarat, Himachal Pradesh, Jammu and Kashmir, Rajasthan, Arunachal Pradesh, Nagaland, Tripura, Andaman and Nicobar Islands as part of her current assignment.
Email ID: kashyapiawasthi[at]gmail[dot]com

Dr. Subitha G.V Menon has her Ph.D in Education from Regional Institute of Education, Mysore. She has done considerable work in the area of instructional designing and module development in educational psychology. She worked as an Instructional Designer developing Computer Based Training modules in the area of e-learning. She has worked on projects at IIT Madras which includes Monitoring of SSA implementation and Assessing ALM in Government schools of Tamil Nadu. She is currently working as Assistant Professor for NCSL, NIEPA, while coordinating the NCSL school leadership programmes in Assam, Karnataka, Telangana, Odisha and Puducherry.

Email ID: subithagvmenon[at]gmail[dot]com

Dr. N. Mythili is presently working as Assistant Professor, NCSL, NIEPA. Her field of interests relate to Designing and Planning teaching programmes on School Leadership and Management, implementing capacity building programmes on School leadership and Management in a few Indian states and research in Women in School leadership. She has also worked on Quality of Schooling with special reference to rural government schools in Karnataka. She has researched in the area of academic structures in school education system with special reference to restructuring teacher education under 12th Five Year Plan. She was earlier associated with Institute for Social and Economic Change, Bangalore; Centre for Multi Disciplinary Development Research, Dharwad; Azim Premji Foundation (Bangalore), TISS (Mumbai). She has several research Publications in referred journals. She is leading school leadership development programme in Andhra Pradesh, Kerala, Meghalaya, Manipur and Sikkim.
Email ID: sastry.mythili18[at]gmail[dot]com

Dr. Charu Smita Malik is currently working as a Senior Consultant in NCSL, NIEPA. She obtained her Ph.D. in Educational Policy, Planning and Administration from the National Institute of Educational Planning and Administration, New Delhi. Her research was based on issues of equity in access and participation at secondary level in Uttar Pradesh. She completed her Post Graduation in Sociology from JawaharLal Nehru University. She is working with the Centre in designing and developing the School Leadership programme along with the team and is involved in teaching Certificate and Post Graduate Diploma programmes in School Leadership and Management. In the field, she is engaged more intensively with school leadership programme implementation in Uttar Pradesh, Bihar, Uttarakhand, Haryana and Maharashtra. Her areas of interest include educational planning and school leadership.
Email ID: charunuepa[at]gmail[dot]com .

Dr. Anthony Joseph - Senior Consultant, Ph.D. in Clinical Psychology, University of Santo Tomas, Manila, Philippines and Post Graduate degrees in Education, Commerce and Economics, has a rich experience of serving as teacher and administrator, in many parts of India. His research on 'Reflexivity, Teacher Education, Learning and Interrogating Assimilated Educational Perspectives' is a call to synchronize Knowledge with Lived Reality based on deliberation, discernment and dedication. As a Professional Development Resource Person, he has facilitated Capacity Building Workshops on School Leadership Development (SLD) in Arunachal Pradesh, Delhi, Goa, Jammu and Kashmir, Jharkhand, Lakshadweep and Chandigarh, Manipur, Mizoram, Nagaland, Tamil Nadu and Tripura. Join him to collaboratively imagine as learners - our journeys toward co-creating, and enabling an eco-system for the curious, critical and compassionate - the interrogation of inequality, justice and transformation in education.
Email ID: ajcounselor[at]gmail[dot]com


Mr. Suraj Kumar
Software Developer
Ms. Vibhuti Anand
Graphic Designer

Dr. Tanushree Mahalik
Dr. Monika Batham
Ms. Indu Sharma

Ms. Monika Bajaj
Ms. Gurmeet Kaur
Junior Admin Consultant

Mr. Vinod Jajoria
Ms. Alka Negi

Mr. Rampukar Singh
राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र



राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र (एन.सी.एस.एल) की स्थापना २०१२ में राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन संस्थान (एन.आई.ई.पी.ए) या नीपा में की गई थी | विद्यालय रूपान्तरण को मुख्य उद्देश्य के रूप में लेकर, एन.सी.एस.एल, नीपा पूरे देश के ६५०० ब्लॉक, ६७९ जिलों एवं ३६ राज्यों एवं केन्द्र शासित राज्यों में विद्यालयों से संबंधित समस्याओं/मुद्दों एवं नेतृत्व की आवश्यकताओं को संबोधित करने के लिए कार्य कर रहा है। केन्द्र की मुख्यतः सभी गतिविधियां विद्यालयों के विविध परिप्रेक्ष्य को ध्यान में रखते हुए बनाई गयी हैं | यह केन्द्र, विद्यालयी नेतृत्व के विभिन्न मॉडलस को विकसित करने हेतु भी कार्यरत है।

केन्द्र का उद्देश्य है यह सुनिश्चित करना कि देश के प्रत्येक विद्यालय तक पहुंच बनें व "हर बच्चा सीखे, हर विद्यालय उत्कृष्ट हो"| इस मिशन को प्राप्त करने हेतु, केन्द्र ने चार घटकों के माध्यम से विद्यालय नेतृत्व विकास की रुपरेखा बनाई है। ये चार घटक हैं-पाठ्यचर्या एवं सामग्री विकास, क्षमता विकास, नेटवर्क और संस्थानिक निर्माण व शोध एवं विकास।

केन्द्र ने नेतृत्व विकास की रूपरेखा इस प्रकार बनाई है जिसके द्वारा विद्यालय प्रमुखों व व्यवस्था प्रशासकों के दीर्घकालीन विकास एवं सतत संलग्नता को सुनिश्चित किया जा सके | भारत में पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर विद्यालय नेतृत्व विकास हेतु एक राष्ट्रीय कार्यक्रम की रूपरेखा एवं पाठ्यचर्या का ढांचा बनाया गया है। सम्पूर्ण कार्यक्रम एक अभ्यास केन्द्रित पाठ्यचर्या पर आधारित है जो राज्यों एवं उनमें निहित विविधताओं के संदर्भ में विद्यालय संबंधी मुद्दों एवं आवश्यकताओं पर केन्द्रित है। पाठ्यचर्या की रूपरेखा के अन्तर्गत विद्यालय नेतृत्व विकास पर एक हस्तपुस्तिका भी निर्मित की गई है जो विद्यालय प्रमुखों के लिए एक बहुमूल्य संसाधन एवं सन्दर्भ सामग्री के रूप में प्रस्तुत है | इस हस्तपुस्तिका के द्वारा विद्यालय प्रमुख वर्तमान व भविष्य की चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हो पाएंगे |

भारत ने विद्यालयों में, सुविधाएं प्रदान करने, पहुँच को बढ़ाने व छात्रों के ठहराव को सुनिश्चित करने में काफी प्रगति की है | फिर भी, इन प्रयासों से अधिगम प्रतिफलों में सुधार नहीं आया है | छात्र अधिगम के निचले स्तर पर भी अधिक असमानता पाई जाती है | अत: नीतियों द्वारा हस्तक्षेप का मुख्य केंद्र बिंदु विद्यालयी शिक्षा से हटकर अधिगम की प्राथमिकताओं पर केंद्रित हुआ है | यह भी पाया गया है कि समान संसाधनों वाले विद्यालयों के अधिगम प्रतिफल असमान हैं | इस कथन से यह पता चलता है कि अधिगम प्रतिफल का निम्न स्तर का एक मुख्य कारण प्रभावी विद्यालय प्रबन्धन का अभाव है | प्रभावी विद्यालय नेतृत्व, संसाधन प्रयोग की दक्षता में तथा शिक्षण की गुणवत्ता में सुधार लाता है एवं शिक्षार्थी की उपलब्धि में वृद्धि करता है |

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के आग्रह पर नीपा ने 'राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र' (एन.सी.एस.एल) की स्थापना की जिसका मुख्य उद्देश्य है "हर बच्चा सीखे, हर विद्यालय उत्कृष्ट हो" | भारत में विद्यालय नेतृत्वकर्ताओं की एक नई पीढ़ी का विकास करने के लिये एन.सी.एस.एल ने विद्यालय नेतृत्व विकास हेतु एक राष्ट्रीय कार्यक्रम की रुपरेखा एवं पाठ्यचर्या के ढांचे का निर्माण किया | परिकल्पना की जाती है कि विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम, विद्यालय प्रमुखों को उनके विद्यालयों को 'उत्कृष्टता के केन्द्रों' रूपान्तरित करने में सहायक होगा | पांच वर्ष की लघु अवधि में केन्द्र ने विद्यालय शिक्षा के सभी स्तरों के विद्यालय प्रमुखों को ध्यान में रखते हुए, विशेष फेस टू फेस विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम को विकसित किया है | इसके साथ ही देश के प्रत्येक विद्यालय तक अपनी पहुँच को बढ़ाने के लिये केन्द्र ने विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबन्धन पर एक ऑन-लाइन कार्यक्रम को सफलता पूर्वक विकसित किया | ऑन-लाइन कार्यक्रम मूडल (moodle)प्लेटफ़ॉर्म द्वारा संचालित है एवं विद्यालय नेतृत्व विकास की पाठ्यचर्या पर आधारित है | इस कार्यक्रम को चार खंडों के अन्तर्गत तैयार किया गया है : (i) ई-विषयवस्तु-पठन-सामग्री अथवा माड्यूल के रूप में (ii)पावर प्वाइंट प्रस्तुति, केस स्टडीज, श्रव्य-दृष्य एवं अन्य कई प्रकार के संसाधनों से बनी सन्दर्भ पठन सामग्री (iii) अभ्यास क्रियाओं एवं गतिविधियों सहित स्व-अधिगम सामग्री एवं (iv) बहु-विकल्पीय प्रश्नों, नियत कार्यों,अभ्यास क्रियाओं, वाद-विवाद मंच एवं पोर्टफोलियों द्वारा आँकलन |

मैं, एन.सी.एस.एल के दल को प्रभावी विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम को विकसित करने हेतु व डिजिटल पहल के लिए, बधाई देता हूँ | इस कार्यक्रम से निस्संदेह ही विद्यालयों को ज्ञान एवं उत्कृष्ठता के केन्द्रों में रूपान्तरित करने व संस्थागत प्रदर्शनों को सुधारने की ओर विद्यालय प्रमुखों के प्रयासों को मार्गदर्शन मिलेगा |

प्रो.एन.वी वर्गीज

अपने प्रारंभिक दिवस से ही नीपा स्थित राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र, विद्यालय प्रमुखों को उनकी 'क्षमताओं का ज्ञान करवाने', 'विद्यालय' के प्रति लगाव' तथा 'विद्यालय रूपांतरण' हेतु किए जाने वाले प्रयासों के प्रति आश्वस्त करने के लिए प्रतिबद्ध है | आज हम उस स्तर पर पहुँच चुके हैं जब हम गर्व से कह सकते हैं कि एन.सी.एस.एल नीपा द्वारा अवधारित विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम पूरे देश में क्रियान्वित है | प्रयास में, सभी राज्यों एवं केन्द्रशासित राज्य सरकारों का योगदान बहुत सराहनीय रहा है | विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम से जुड़े हुए राज्य संसाधन समूह के सदस्यों तथा विद्यालय प्रमुखों का कार्यक्रम के प्रति उत्साह व योगदान भी बहुत प्रशंसनीय है | विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबन्धन पर ऑन-लाइन कार्यक्रम, केन्द्र द्वारा विद्यालय नेतृत्व विकास पर प्रारम्भ किये गये कई कार्यक्रमों में से एक है | यह कार्यक्रम, विद्यालय नेतृत्व विकास की पाठ्यचर्या व रुपरेखा पर आधारित है, जिसकी अवधारणा राष्ट्रीय स्तर पर अवश्य की गयी है किन्तु इसकी जड़ों का आधारभूत वास्तविक विद्यालय अभ्यास हैं | साथ ही यह सन्दर्भित नेतृत्व मुद्दों को सम्बोधित करती है | यह कार्यक्रम विद्यालय प्रमुखों की नेतृत्व भूमिका को केन्द्र में रखकर प्रमुखत: ‘अभ्यास-केन्द्रित’उपागम का अनुसरण करता है एवं विद्यालय प्रमुखों को विद्यालय सुधार एवं रूपान्तरण हेतु मुख्य उत्प्रेरक के रूप में उभारता है | इसे विशेषत: प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्य माध्यमिक विद्यालयों के प्रधानाचार्यों एवं प्रमुखों के लिये निर्मित किया गया है | यह कार्यक्रम विद्यालय रूपांतरण हेतु की जाने वाली पहल के लिए अवसर प्रदान करेगा जो स्वयं के विकास से लेकर विद्यालय आधारित परिवर्तनों व नवाचारों से संबंधित है |

एन.सी.एस.एल, ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय की आज्ञा से मूडल प्लेटफॉर्म का प्रयोग करते हुए ऑनलाइन की अद्भुत दुनिया में प्रवेश करने की चुनौती को स्वीकार किया है | हमारे भीतर यह विश्वास जाग्रत किया कि “हाँ! हम कर सकते हैं | इसके लिए हम सभी मानव संसाधन विकास मंत्रालय के आभारी हैं | एन.सी.एस.एल का प्रत्येक सदस्य, कार्यक्रम के अंतर्गत रुपरेखा तैयार करने, विषय सामग्री, ई-विषय वस्तु,संदर्भित अध्ययन सामग्री, अभ्यास क्रियाएँ, आँकलन एवं प्रदत्तकार्य, श्रव्य-दृश्य लिंक इत्यादि को एकत्र करने के लिए आरंभ से ही अनवरत रूप से कार्य कर रहा है | मैं एन.सी.एस.एल नीपा के दल एवं विश्वविद्यालय के तकनीकी विशेषज्ञों को बधाई देती हूँ जिन्होंने हमारे उप-कुलपति महोदय, प्रो.एन.वी.वर्गीज, के मार्गदर्शन में इस कार्यक्रम के स्वप्न को साकार किया है |

एन.सी.एस.एल, नीपा विद्यालय प्रमुखों को उनकी मंज़िल तक पहुँचाने के लिए, राज्य सरकारों / केन्द्रशासित राज्य सरकारों एवं संसाधन समूहों से सहयोग की अपेक्षा रखता है | मैं आशा करती हूँ कि इस देश का प्रत्येक विद्यालय प्रमुख इस सुविचारित कार्यक्रम से अधिकाधिक लाभान्वित हो एवं विद्यालय परिवर्तन व विकास हेतु एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य करे |

आईये, विद्यालय रूपान्तरण की इस यात्रा में एक साथ मिलकर आगे बढ़ें और यह सुनिश्चित करें कि "हर बच्चा सीखे, हर विद्यालय उत्कृष्ट हो" |
"हर बच्चा सीखे, हर विद्यालय उत्कृष्ट हो" |

प्रो. रशिम दीवान

प्रो. रश्मि दीवान राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन संस्थान, नई दिल्ली, में स्थित राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र में प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष हैं। गत ३० वर्षों से इनका शोध कार्य मुख्यतः विद्यालयी शिक्षा व विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन के महत्वपूर्ण मुद्दों पर केन्द्रित रहा है। अपने अनुभव सिद्ध शोधों के सुदृढ़ आधार पर इन्होंने वर्तमान एवं भावी शैक्षणिक प्रशासकों एवं विद्यालय नेतृत्वकर्ताओं के क्षमता विकास में व्यापक योगदान दिया है। विभिन्न राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित इनके शोध कार्य मुख्यतः विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन के क्षेत्र से सम्बन्ध रखते हैं | अन्य विषय जिन पर इन्होंने विस्तृत रूप से लिखा हैए वे हैं रू सक्रिय/गतिशील विद्यालय नेतृत्व, विद्यालय से संबंधित सुधार हेतु नेतृत्व रणनीतियां, विद्यालय परिवर्तन हेतु प्रधानाचार्य उत्प्रेरक के रूप में, विद्यालय प्रमुखों में नेतृत्व व्यवहार एवं मूल्य, बाल शिक्षा अधिकार अधिनियिम २००९ के संदर्भ में विद्यालय नेतृत्व रू बदलाव एवं चुनौतियाँ, नेतृत्व क्षेत्र में महिलाओं के लिए नीति-निर्देश, छोटे बहुस्तरीय विद्यालयों का प्रबंधन एवं नेतृत्व, विद्यालय आधारित प्रबंधन एवं निरीक्षण, सामुदायिक भागीदारी एवं प्रारम्भिक शिक्षा का सशक्तीकरण एवं अधिगम संस्थाओं के रूप में विद्यालयों का उन्नयन, इत्यादि |

डॉ. सुनीता चुघ ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति में एम.ए. एवं एम.फिल. किया है एवं जामिया मिलिया विश्वविद्यालय से शिक्षाशास्त्र में पी.एच.डी. प्राप्त की है। वर्तमान में वह राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केंद्र, नीपा में सह-प्रोफेसर के पद पर कार्य कर रही हैं। इनके शोध के क्षेत्र में शहरी वंचित बच्चों की शिक्षा, समावेशी शिक्षा, आर.टी.आईण् एवं इसका क्रियान्वयन और विद्यालय नेतृत्व सम्मिलित हैं। इन्होंने अनेकों प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में रचनात्मक लेखों द्वारा योगदान दिया है एवं शहरी बस्तियों में रहने वाले बच्चों के शैक्षिक स्तर, मुद्दों एवं समस्याओं पर एक पुस्तक भी लिखी है। इन्होंने शहरी उपेक्षित बच्चों तक पहुंच, सहयोग एवं अधिगम की उपलब्धि के मुद्दों पर शोध किया है तथा जेरूसलेम में समावेशी शिक्षा एवं नोटिंघम, यू.के में विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रम में भाग लिया है। ये दिल्ली, पंजाब, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल और मिज़ोरम में सक्रिय रूप से विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का नेतृत्व कर रही हैं।
ईमेल आई डी: sunitachugh[at]niepa[dot]ac[dot]in

डॉ. कश्यपी अवस्थी राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र, नीपा में सहायक प्रोफेसर हैं। इनका वर्तमान केंद्र बिंदु विद्यालय नेतृत्व विकास है जिसमें ये एन.सी.एस.एल दल के साथ हस्त-पुस्तिका एवं पाठ्यचर्या के विकास में सक्रिय रूप से जुड़ी हुई हैं। ये शिक्षण,शोध, एम.फिल. शोधार्थियों एवं अभ्यासकर्ताओं का मार्गदर्शन करने में भी संलग्न हैं। इससे पूर्व, इन्होंने शिक्षा विभाग, एम.एस. विश्वविद्यालयए बड़ौदा, गुजरात में व्याख्याता के रूप में भी अपनी सेवाऐं दी हैं जहाँ से इन्होंने पी.एच.डी. भी प्राप्त की | इन्होंने प्रारम्भिक शिक्षा में सामुदायिक सहभागिता तथा अध्यापकों की क्षमता विकास के क्षेत्र में भी अपना योगदान दिया है। वर्तमान में ये गुजरात, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, अरूणाचल प्रदेशए नागालैण्ड, त्रिपुरा, अंडमान एवं निकोबोर द्वीप समूह इत्यादि राज्यों के संसाधन दल एवं विद्यालय प्रमुखों की क्षमता विकास के कार्य में संलग्न हैं जो इनके वर्तमान प्रदत्त कार्य का हिस्सा भी है।
ईमेल आई डी: kashyapiawasthi[at]gmail[dot]com

डॉ. सुबिथा जी.वी. मेनन ने रीजनल इन्स्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन, मैसूर से पी.एच.डी. प्राप्त की है। इन्होंने शैक्षणिक मनोविज्ञान के क्षेत्र में शिक्षण रूपरेखा बनाने एवं मॉड्यूल विकास में उल्लेखनीय कार्य किया है। इन्होंने ई-अधिगम के क्षेत्र में कम्प्यूटर आधारित प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित करने हेतु निर्देशात्मक डिज़ाइनर के रूप में भी कार्य किया है। डॉ. सुबिथा ने आई.आई.टी. मद्रास में भी कई परियोजनाओं पर कार्य किया है जो तमिलनाडु के सरकारी विद्यालयों में एस.एस.ए आँकलन एवं ए.एल.एम क्रियान्वयन के अनुश्रवण से संबंधित रही हैं। वर्तमान में ये एन.सी.एस.एल., नीपा में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्य कर रही हैं एवं आसामए कर्नाटक, तेलंगाना, उड़ीसा एवं पुडुचेरी राज्यों में एन.सी.एस.एल. के विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रमों की समन्वयक हैं।

ईमेल आई डी: subithagvmenon[at]gmail[dot]com

डॉ. एन.मैथिली राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केंद्र, नीपा में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्य कर रही हैं। विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर शैक्षिक कार्यक्रमों की रूपरेखा एवं योजना बनाना, भारतीय राज्यों में विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर क्षमता विकास कार्यक्रमों का क्रियान्वयन करना एवं विद्यालय नेतृत्व में महिलाओं की भूमिका पर शोध इनकी रूचि के क्षेत्र हैं। इन्होंने शिक्षा की गुणवत्ता पर भी कार्य किया है जो विशेषत: कर्नाटक के सरकारी ग्रामीण विद्यालयों के सन्दर्भ में है। इन्होंने १२वीं पंचवर्षीय योजना के तहत अध्यापक-शिक्षा की पुनर्संरचना के संदर्भ में भी शोध किया है। इससे पूर्व ये, 'इन्स्टीट्यूट फॉर सोशल एडं इकॉनोमिक चेन्ज, बैंगलौर', 'सेंटर फॉर मल्टी डिसिप्लीनरी डेवलपमेंट रिसर्च, धारवाड़', 'अज़ीम प्रेमजी फाउन्डेशन (बैंगलौर) ,टी.आई.एस.एस.(मुंबई) से जुड़ी हुई थीं। संदर्भित पत्रिकाओं में, इनके कई शोध भी प्रकाशित हुए हैं। यह आन्ध्र प्रदेश, केरल, मेघालय, मणिपुर और सिक्किम में विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का नेतृत्व कर रही हैं।
ईमेल आई डी: sastry.mythili18[at]gmail[dot]com

डॉ. चारू स्मिता मलिक वर्तमान में राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केंद्र, नीपा में वरिष्ठ सलाहकार के रूप में कार्य कर रही हैं। इन्होंने, राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन संस्थान, नई दिल्ली से 'शैक्षिक नीति, योजना एवं प्रशासन' में पी.एच.डी. प्राप्त की है। इनका शोध, उत्तर प्रदेश में माध्यमिक स्तर पर पहुंच एवं भागीदारी में समता के मुद्दों पर आधारित था। इन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र में स्नातकोत्तर किया है। ये विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने एवं उसे विकसित करने में दल सहित केन्द्र के साथ कार्य कर रही हैं एवं विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन में सर्टिफिकेट एवं परा स्नातक डिप्लोमा कार्यक्रमों के शिक्षण में भी संलग्न हैं। ये उत्तर प्रदेश, हरियाणा, बिहार एवं महाराष्ट्र में विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रम के क्रियान्वयन में अधिक गहनता से संलग्न हैं। शैक्षणिक योजना एवं विद्यालय नेतृत्व इनकी रूचि के क्षेत्र हैं।
ईमेल आई डी: charunuepa[at]gmail[dot]com .

डॉ. एन्थोनी जोसफ राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र, नीपा में वरिष्ठ सलाहकार के पद पर कार्यरत हैं द्य इन्होंने सेटो टोमस विश्वविद्यालय, मनीला, फिलीपींस से क्लिनिकल मनोविज्ञान में पी.एच.डी. प्राप्त की है एवं शिक्षाशास्त्र, वाणिज्य एवं अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर हैं। एक अध्यापक एवं प्रशासक के रूप में इनका काफी अनुभव है। इनका शोध कार्य "रिफलैक्सिविटी, टीचर एजुकेशन, लर्निंग एण्ड इन्टेरोगेटिंग एसिमिलिटिड एजुकेशनल पर्सपेक्टिवस" से सम्बन्ध रखता है | एक व्यवसायिक विकास संसाधन व्यक्ति के रूप मेंए इन्होंने अरूणाचल प्रदेश, गोवा, जम्मू एवं कश्मीरए झारखण्ड एवं तमिलनाडु में विद्यालय नेतृत्व विकास हेतु क्षमता विकास कार्यशालाओं में सुगमकर्ता के रूप में कार्य किया है और इन राज्यों के समन्वयक भी हैं
ईमेल आई डी: ajcounselor[at]gmail[dot]com


श्री सूरज कुमार
सॉफ्टवेयर डेवेलपर
श्रीमति विभूति आनन्द
ग्राफिक डिज़ाइनर

डॉ. तनुश्री महालिक
डॉ. मोनिका बाथम
श्रीमति इन्दु शर्मा

सुश्री मोनिका बजाज
सुश्री गुरमीत कौर
प्रशासनिक सलाहकार

श्री विनोद जाजोरिया
सुश्री अल्का नेगी

श्री राम पुकार सिंह